Short Essay On Library In Hindi

Hindi Essay निबंध Short Essay on Library in Hindi .

29 दिसं 2013 ज्ञान की देवी माता सरस्वती की उपासना के लिए दो मंदिर हैं- एक विद्यालय और दूसरा पुस्तकालय । विद्यालय में Short Essay on “My School Library in Hindi. Article shared by. Read this Short Essay on “My School Library” in Hindi language. 100016 · by Taboola by Taboola. 9 मई 2016 Pustakalaya (Library) ke labh (nibandh) in hindi कहते हैं किताबें इन्सानों की सबसे अच्छी दोस्त होती हैं.


पुस्तकालय पर निबन्ध Essay on Library in . Essays in Hindi

3 अप्रैल 2015 पुस्तकालय का अर्थ है- पुस्तक+आलय अर्थात पुस्तकें रखने का स्थान। पुस्तकालय मौन अध्ययन का स्थान है जहाँ in Germany


पुस्तकालय पर निबंध Essay on Library in . Essays in Hindi

Article shared by : पुस्तकालय पर निबन्ध | Essay on Library in Hindi! पुस्तकालय का शाब्दिक अर्थ है पुस्तकों का घर । ये पुस्तकालय तीन


Library Essay in Hindi पुस्तकालय पर निबंध Hindi Vidya

पुस्तकालय पर निबंध | Essay on Library in Hindi Language. Article shared by : Here is a compilation of essays on Library for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 and for Germany


Speech on Importance of Library in Hindi Shareyouressays

20 जून 2017 Library Essay in Hindi अर्थात इस article में आप पढेंगे, पुस्तकालय पर एक निबंध हिन्दी भाषा में. पुस्तकालय में ज्ञान


Images for hindi essays on library

Speech on Importance of Library in Hindi Here is your Speech on Importance of Library specially written for School and College Students in Hindi Language: A (105) Knowledge! Can You Write Short Essays On These Below Given Topics!


Sample Essay on “Library” in Hindi Shareyouressays

in Germany


Short Essay on “My School Library in Hindi

Sample Essay on “Library” in Hindi. Article shared by. Read this essay specially written for you on “Library” in Hindi language. 10055 · by Taboola by Taboola.

skip to main | skip to sidebar

Short Essay on 'Library' in Hindi | 'Pustakalaya' par Nibandh (225 Words)

Short Essay on 'Library' in Hindi | 'Pustakalaya' par Nibandh (225 Words)
पुस्तकालय

पुस्तकालय का अर्थ है- पुस्तक+आलय अर्थात पुस्तकें रखने का स्थान। पुस्तकालय मौन अध्ययन का स्थान है जहाँ हम बैठकर ज्ञानार्जन करते हैं।

पुस्तकालय भिन्न-भिन्न प्रकार के हो सकते हैं। कई विद्या-प्रेमी अपने उपयोग के लिए अपने घर पर ही पुस्तकालय की स्थापना कर लेते हैं। ऐसे पुस्तकालय 'व्यक्तिगत पुस्तकालय' कहलाते हैं। सार्वजनिक उपयोगिता की दृष्टि से इनका महत्त्व कम होता है।

दूसरे प्रकार के पुस्तकालय स्कूलों और कॉलेजों में होते हैं। इनमें बहुधा उन पुस्तकों का संग्रह होता है, जो पाठ्य-विषयों से संबंधित होती हैं। सार्वजनिक उपयोग में इस प्रकार के पुस्तकालय भी नहीं आते। इनका उपयोग छात्र और अध्यापक ही करते हैं। परन्तु ज्ञानार्जन और शिक्षा की पूर्णता में इनका सार्वजनिक महत्त्व है। इनके बिना विद्यालयों की कल्पना नहीं की जा सकती।

तीसरे प्रकार के पुस्तकालय 'राष्ट्रीय पुस्तकालय' कहलाते हैं। आर्थिक दृष्टि से संपन्न होने के कारण इन पुस्तकालयों में देश-विदेश में छपी भाषाओं और विषयों की पुस्तकों का विशाल संग्रह होता है। इनका उपयोग भी बड़े-बड़े विद्वानो द्वारा होता है। चौथे प्रकार के पुस्तकालय सार्वजनिक होते हैं। इनका संचालन सार्वजनिक संस्थाओं के द्वारा होता है।

पुस्तकालयों के अनेक लाभ हैं। सभी पुस्तकों को खरीदना हर किसी के लिए सम्भव नहीं है। इसके लिए लोग पुस्तकालय का सहारा लेते हैं। इन पुस्तकालयों से निर्धन व्यक्ति भी लाभ उठा सकता है। पुस्तकालय से हम अपनी रूचि के अनुसार विभिन्न पुस्तकें प्राप्त कर अपना ज्ञानार्जन कर सकते हैं।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *